Sunday Shayaris by Alok Mishra - Episode two

खुद को भिगोयें भी कितना अल्फ़ाज़ों की बरसात में?
पुरे बादलों के समंदर में बस तुम्हारी ही तो खुशबु है!
*****************************************

 

तुम्हें और याद करूँ तो शायद मेरी जान चली जाये,
पर भुलाके तुम्हें एक पल जी भी तो नहीं सकता!
*****************************************

वजूद तलाशता हूँ अपना हर दिन,
अपनों के बीच भी जैसे मैं पराया हूँ;
क्या मैं हूँ भी या नहीं हूँ इस जिस्म में?
या तुम से बिछड़ के तुम्हें ढूंढता तुम्हारा ही साया हूँ?
****************************************

हर गली और रास्ते जहाँ तुम्हारे साथ चला था मैं
अब कहीं पहुँचते ही नहीं हैं वो!
****************************************

कहीं तुम भी तो होगी मेरी यादों की रौशनी में
बस यही सोचके अपनी ज़िन्दगी को रोशन कर लेता हूँ हर रोज!
****************************************

सुनता था इंसान नसीब खुद बनाता है,
कोशिश की भी पर हार गया,
मगर हार नहीं मानी है!
****************************************

 

by alok mishra

(feel free to use these words but do give credit & web address if you are gracious enough)