Love

शुक्रिया… तेरा शुक्रिया! last personal poem

  ऐसे बीच रास्ते छोड़ना अकेले मुझे कितना आसान रहा होगा शायद तुम्हारे लिए। पर कैसे भूल गयी तुम अब यहाँ से पीछे जाऊँ तो ज़िंदगी साथ नहीं देगी और आगे बढ़ा तुम्हारे बिना तो ज़िंदगी का साथ मैं नहीं दे पाउँगा! पर ठीक है चलो तुम्हारे इस सिले को मज़बूरी का ही बस नाम देते हैं। मेरी ज़िन्दगी में आने का शुक्रिया! मुझे मुहब्बत सिखाने का शुक्रिया! मुझे मुझसे [...]

By |2019-09-13T05:12:09+05:30May 17th, 2019|Love|0 Comments

फिरसे जीने दो – कविता (firse jine do Hindi poem)

प्रतीक्षा की बहुत अब तक, और स्वप्न देखे ना जाने कितने! प्रेम की ये प्रतिध्वनि, तुम्हारी मुखाकृति का वो प्रतिविम्ब आज भी ह्रदय में मेरे सुसज्जित हैं, यथावत। किन्तु अब, जब पुनः सामने लाया तुम्हें मेरे प्रारब्ध, तब, और विलम्ब न होने दो! सुनो, थोड़ा तुम बोलो, कुछ मैं भी कहता हूँ। खुल जाने दो केश अपने, मैं पवन के साथ बहता हूँ। और हाथ में दो मेरे तुम अपना [...]

By |2019-09-13T05:12:10+05:30May 1st, 2019|Love|0 Comments

suffering and love… are not different! Poem

  beauty alone cannot convey what a beautiful heart may do. falling in love too easy but to go through the tunnels of torment that lead to perfection, is tough. believe me - I say, it's true. learn to embrace your sufferings yet never lose the heart that feels love for someone always on top of your priorities. suffer but love, keep loving. beauty may die - love is eternal [...]

By |2019-09-13T05:12:10+05:30April 28th, 2019|Love|0 Comments

Let’s give it a try!

  Let the love not die today or tomorrow or ever in life. Let the love between us not die. Let it be the ocean it is and swallow the mistakes made by you and me. Let us try and make it into a tree that saves us from storms and sun. Here, come here darling! Let's make it the path to our glory. Even with our respective deaths, let [...]

By |2019-09-13T05:12:11+05:30April 26th, 2019|Love|1 Comment

I am Love & She is Loved – a long poem

  Long ago, the story began with a pretty maiden and a faithful, lunatic man. Entirely unknown to each other, they knew the wishes of fate neither. The moon was there to soothe and the Sun was meant to shine - every morning and die in the evening every day. If love strikes when we desire the least to decay, believe me all, it is meant to go all the [...]

By |2019-09-13T05:12:11+05:30April 22nd, 2019|Love|1 Comment

बंदिशों को टूट जाने दो… love poem in Hindi

  पंख तो दे दिये अरमानों को तुमने अब बंदिशों को भी टूट जाने दो अनंत तक देख लेने दो तुम्हें समीप से अब दायरों को पीछे छूट जाने दो प्रेम में कोई बंधन तो नहीं होता? बताओ अगर मुहब्बत में फासले होते हों तो। शब्द तो हार गए कबके इसे परिभाषित करने के प्रयत्न में अगर कोई अल्फ़ाज़-बयां चाहत का हो तो बता दो। जताओ न चाहतें अब दूर [...]

By |2019-09-13T05:12:13+05:30March 22nd, 2019|Love|0 Comments

Love is too bright to be dark… a poem by Alok Mishra

A heart too big? A mind too narrow? A life seemingly unending? A world too daunting to live? Where is the truth I was looking for? Does love end? Does love fail? Seldom often rarely never always Yes, a hiatus a look away a pause in the incessant stroll and it will roll once again towards the destination, a destination that's destiny too, perpetually there, always true. Only lovers know. [...]

By |2019-03-09T13:10:28+05:30March 8th, 2019|Love|1 Comment

निर्वाण – Hindi Poem

जैसे निर्वाण मिला हो मेरी मोक्ष की महत्वाकांक्षा को बस एक बार जो छू लेते हैं लब तेरे मेरे प्रफुल्लित अधरों को जो बस अंकुरित से हुए हैं प्रेम की बारिश में! मेरी इच्छाओं की धुंध पे पड़ती हैं जब धुप तुम्हारी मुहब्बत की सिहर उठता है मेरा मन, एक आवेश में और छूट जाता है तन पीछे, कोसों दूर कहीं प्रकाश, तेज, नूर… कहीं ये मिलन तो नहीं व्याकुल [...]

By |2019-01-20T08:28:55+05:30January 17th, 2019|Love|0 Comments

एक बरस निकल गया – Hindi poem on love’s journey

  कुछ तो था कहीं न कहीं अधूरा मुझमें, और शायद तुम में भी। वर्षों की तन्हाई, एक लम्बी जुदाई, अलग-अलग राहों पे अपने-अपने सफर, अनजान, खोये अपने जीवन में हम-तुम कुछ तो हुआ तुम्हें और फिर मुझे भी की रुकी तुम फिर से उसी मोड़ पे और पुकारा मुझे फिर से गहराई थी, एक ठहराव सा तुम्हारी आवाज में, मानो वर्षों की कहानियाँ कह दी हो तुमने एक लम्हें [...]

By |2019-09-13T05:12:14+05:30October 31st, 2018|Love|1 Comment