बिखरे पते, सूखे वन-उपवन,
प्यासे जलाशय,
व्याकुल मानव मन…
मैं वहाँ भी था!

जाने कितने दुःशासन,
कितने महाभारत समर
और कितनी द्रौपदियों के चीर हरण,
हाँ, मैं वहाँ भी था!

खिले वसंत की अरुणाई,
मानो संसार के मुख मंडल पे
आभा हो नयी कोई खिल आयी,
मैं वहाँ भी था!

कर्मठ शरीर के कर्मकांड,
मानवी के वो क्षमा-त्याग
और वक्त-पथ पे बढ़ता जीवन,
हाँ, मैं वहां भी था…

हूँ सदा, और रहूँगा!

 

A Hindi poem by Alok Mishra. The poem, for those who cannot understand Hindi or cannot view the fonts, here it is:

Bikhare pate, sukhe van-upwan
pyase jalashay
vyakul manav man
mai wahan bhi tha!

Jane kitne duhshasan
kitne mahabharat samar
aur kitni draupadiyon ke chir haran
Han mai wahan bhi tha.

Khile vasant ki arunai
mano sansar ke mukh mandal pe
abha ho nayi koi khil ayi
Mai wahan bhi tha.

Karmath sharir ke karmkand
manavi ke wo kshama-tyag
aur wakt path pe badhta jivan
han mai wahan bhi tha…

hun sada, aur rahunga!