काश वो वक्त ठहर जाता
और मैं समेट लेता
सारी खुशियाँ जो
लायी थी मेरे चेहरे पे
तुम्हारे चेहरे की एक झलक ने!

दिन गुजरे
और महीने
और फिर साल
साल दर साल
बस निकलते गये
मानो जैसे सबने ठान ली हो
नदियों के जैसे बह जाने को …

समय की लहरों ने
कभी दूर तो कभी पास किया मुझे
और तुम्हें
एक दूसरे के।

अलग तो कभी हम हो नहीं पाये
और न हो सकते हैं
क्यूंकि
रिश्ता तो अपना दिलों का है
जो अनछुआ है
खास मुहब्बत के दिनों से!

 

for Valentine’s day

for the love

for you

for me

for M